जौन एलिया शायरी – जान-लेवा थीं ख़्वाहिशें वर्ना

जान-लेवा थीं ख़्वाहिशें वर्ना
वस्ल से इंतिज़ार अच्छा था! – जौन एलिया