हिंदी शेर ओ शायरी – यहाँ सब खामोश है कोई

यहाँ सब खामोश है कोई आवाज़ नहीं करता….
सच बोलकर कोई किसी को नाराज़ नहीं करता….