हिंदी शेर ओ शायरी – एक बार और उलझना हैं

एक बार और उलझना हैं तुमसे,
बहुत कुछ सुलझाने के लिये!!