हिंदी शायरी २ लाइन में – जरुरते तोड देती है इन्सान

जरुरते तोड देती है इन्सान के घमंड को,
न होती मजबुरी तो हर बंदा खुदा होता.