हिंदी शायरी २ लाइन में – इसलिए खामोश रह के उम्र

इसलिए खामोश रह के उम्र पूरी काट दी…
ज़िन्दगी तुझसे बहस का फायदा कोई नहीं…