हिंदी दर्द भरी शायरी – तुझे खुद से निकाल तो

तुझे खुद से निकाल तो दूँ मगर….
सोचता हूँ, फ़िर मुझमें बचेगा क्या..

One comment

Comments are closed.