शेर २ पंक्ति में – ये ना समझना कि खुशियो

ये ना समझना कि खुशियो के ही तलबगार है हम,

तुम अगर अश्क भी बेचो तो उसके भी खरीदार है हम !