शायरी हिंदी में – क्यों घबराता है पगले दुःख

क्यों घबराता है पगले दुःख होने से,
जीवन तो प्रारम्भ ही हुआ है रोने से।