शायरी दोस्ती पर – मंज़िलो से अपनी डर ना जाना

मंज़िलो से अपनी डर ना जाना,
रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना,
जब भी ज़रूरत हो ज़िंदगी मे किसी अपने की,
हम आपके अपने है ये भूल ना जाना.

One comment

Comments are closed.