फ्रेश सेड शायरी – दिए हैं ज़ख़्म तो मरहम

दिए हैं ज़ख़्म तो मरहम का तकल्लुफ न करो….
कुछ तो रहने दो, मुझ पे एहसान अपना….