नयी सेड शायरी – न जाने कैसी नज़र लगी

न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की,
अब वजह नही मिलती मुस्कुराने की.